Governor Generals of Bengal-Part 1

Governor Generals of Bengal-Part 1

1. वारेन हेस्टिंग्स (1772 -1785)(Warren Hestings)

  • वारेन हेस्टिंग्स 1772 AD में बंगाल का गवर्नर जनरल बना तथा रेगुलेटिंग एक्ट 1773AD के ब्रिटिश पार्लियामेंट द्धारा पारित कर देने के बाद गवर्नर जनरल बनाया गया।
  • 1772 में द्वैध शासन की समाप्ति की घोषणा और सरकारी खजाने का हस्तांतरण मुर्शिदाबाद से कलकत्ता किया गया।
  • रेगुलेटिंग एक्ट 1773 के तहत 1774  कलकत्ता में सुप्रीम कोर्ट की स्थापना की गई।
  •  हेस्टिंग्स के ही समय में जोनाथन डंकन(Jonathon Duncan) ने बनारस संस्कृत कॉलेज की स्थापना की।
  • गीता का अंग्रेजी में अनुवाद चार्ल्स विल्किन्स(Charles Wilkins) भी हेस्टिंग्स के सरंक्षण में हुआ।
  • 1784 में सर विलियम जोंस द्वारा “द एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल” की स्थापना द्वारा हेस्टिंग्स के समय में ही की गई।
  • हेस्टिंग्स के समय में मुग़ल सम्राट को मिलने वाली 26 लाख की वार्षिक पेंशन बंद (Stopped the pension to Mughal Samrat)करवा दी
  • हेस्टिंग्स के  ही समय में प्रथम आंग्ल मराठा युद्ध 1776 -82 हुआ जिसके परिणामस्वरूप सालबाई की संधि हुई।
  • द्वितीय आंग्ल मैसूर युद्ध 1780-84 में हुआ जो की मंगलोर की संधि से समाप्त हुआ।
  • पिट्स इंडिया एक्ट 1784 AD के विरोध में इस्तीफा देकर जब वह इंग्लैंड पहुंचा तो बर्क द्वारा उस पर महाभियोग चलाया गया। 
  • परन्तु 7 साल की सुनवाई के बाद उसे छोड़ दिया गया।

2. सर जॉन मैक्फर्सन  (Sir John MecPherson)

  • सर जॉन मैक्फर्सन ने  1785 से 1786 तक अस्थायी गवर्नर  जनरल के रूप में काम किया।

3. लार्ड कॉर्नवॉलिस (1786 – 1793) (Lord Cornwallis)

  • कॉर्नवॉलिस के समय में तृतीय आंग्ल मैसूर युद्ध(1789-92) हुआ  जिसके पश्चात श्रीरंगापट्नम की संधि 1792 में हुई।
  • 1789 में कॉर्नवॉलिस ने दासों के व्यापार पर रोक लगायी।   1793 में बंगाल में “स्थायी बंदोबस्त” लागू किया गया जिसके अनुसार ज़मींदारों को अब भू-राजस्व का 10/11 भाग ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को देना था तथा 1/11 भाग अपने पास रखना था।
  • कॉर्नवालिस ने पुलिस सुधार भी किये तथा ज़िलों की सीमा तय कर दी और उनमे पुलिस थानों की स्थापना की।    
  • कॉर्नवालिस को भारत में प्रशासनिक सेवा (Civil Services) का जनक भी माना जाता है। 
  • प्रारम्भ में यह परीक्षा इंग्लैंड में होती थी पर 1923 से यह भारत में होने लगी।    
  • 1863 में सत्येन्दर्नाथ टैगोर प्रथम भारतीय  ICS  बने
  • शुरू में इस परीक्षा की भारतियों के लिए अधिकतम 23 वर्ष थी परन्तु बाद में इसे लार्ड लिटन द्वारा घटाकर 19 वर्ष कर दिया गया।
Satyender Nath Tagore
  • कॉर्नवॉलिस एकमात्र गवर्नर जनरल है जिसकी समाधी भारत में गाज़ीपुर (उतर प्रदेश) में स्थित है। 

4. सर जॉन शोर(1793-98)(Sir John Shore)

  • सर जॉन शोर ने हस्तक्षेप ने करने की निति का पालन किया।  इसी वजह से पांच वर्षों में किसी भी प्रकार के युद्धों में भाग नहीं लिया।
  • चार्टर एक्ट 1793 इसी के कार्यकाल में  पास हुआ।

5. लार्ड वेलेज़ली (1798-1805)(Lord Wellesley)

  • 1799 में इसने चतुर्थ मैसूर युद्ध में टीपू सुल्तान को हराया और मार दिया।   
  • वेलेज़ली ने भारतीय राज्यों को अंग्रेजी राजनैतिक परिधि में लाने के लिए सहायक संधि (Subsidiary Alliance) प्रणाली का प्रयोग किया।    
  • सहायक संधि (Subsidiary Alliance) की निति के अनुसार किसी सहयोगी भारतीय राज्य के शासक को ब्रिटिश सेना अपने राज्य में रखनी पड़ती थी तथा उसके रखरखाव के लिए अनुदान(grants) देना पड़ता था। यह सब कहने के लिए उस शासक की रक्षा के लिए किया जाता था  पर वास्तव में यह उस शासक से कंपनी को खर्चा दिलवाने का एक ढंग था।

कभी कभी कोई राजा वार्षिक अनुदान न देकर अपने राज्य का कोई भाग दे देता था। संधि के अनुसार राजा को यह मानना पड़ता था की वह अपने दरबार में एक ब्रिटिश रेजिडेंट रखेगा और अंग्रेज़ों की स्वीकृति क बिना किसी और यूरोपीय को अपनी सेवा में नहीं रखेगा। इसके बदले अँगरेज़ उस राजा को दुश्मनो से रक्षा करने का वचन देते थे और अंदरूनी मामलो में दखल न देने का वादा करते थे परन्तु इस वादे को कभी कभी ही पूरा किया गया। वास्तव में सहायक संधि पर हस्ताक्षर करके कोई भारतीय राज्य अपनी स्वाधीनता लगभग गवां ही बैठता था।   (There were four stages in first stage Company under took to lend its troops to a friendly Indian prince to assist him in his wars. In the second stage, the company’s troops  took the field on their own account with the assistance of an India ally who made common cause with them. The next stage was reached when the Indian ally was not to supply men but money. The company undertook to raise, train and equip an army under English officers and render available to ally a fixed number of troops on receiving a sum of money towards the cost of these troops. The final stage was the next logical step. The company under took to defend territories of an Indian ally and for that purpose stationed a subsidiary force in the territory of te state. The Indian ally was asked not to pay money but surrender territory from the revenue of which the expenses of the subsidiary force were to be met.) 

  • सहायक संधि करने वाले राज्य- हैदराबाद का निज़ाम, मैसूर के शासक, तंजोर, अवध , पेशवा, बरार के भोंसले राजा, सिंधिया , जयपुर और जोधपुर के राजपूत राजा।  
  • द्वितीय आंग्ल मराठा युद्ध 1803 -05 के मध्य हुआ तहत बेसिन की सहायक संधि 1802 में वेलेज़ली के समय में हुई।  
  • कलकत्ता में फोर्ट विलियम कॉलेज की स्थापना की।

Continued-

CLICK HERE TO READ –Governor Generals of Bengal part -2

 

 


Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *