General Knowledge JAHANGIR

मुग़ल साम्राज्य 

 

जहांगीर(1605-1627AD)

 

 

                                                     Nishant Bag (Built in Jahangir’s Reign)

जहांगीर का वास्तविक नाम मुहम्मद सलीम (Real Name was Muhammad Salim) था जो सूफी संत शेख सलीम  चिस्ती(Inspired by Sufi Saint Shekh Salim Chisti) के नाम पर रखा गया था ।

जहांगीर का नाम मरियम उज्जमानी भी  था।

अकबर सलीम को शेखो बाबा(Nick name was Sheko Baba) नाम से पुकारता था।

जहांगीर के गुरु अब्दुर्रहीम खानखाना(Abdur Rahim Khankhana) थे।

जहांगीर का विवाह राजा बह भगवान दास की पुत्री मानबाई(Married to Maan Bai) से हुआ था।

21 अक्टूबर 1605 को जहांगीर राजगद्दी पर बैठा।

जहांगीर का राज्यभिषेक नूरुद्दीन मुहम्मद जहांगीर बादशाह गाज़ी(Noorddin Muhammad Jahangir Badshah Gazi)  के नाम से आगरा में हुआ।

 

जन सेवा के उद्देश्य से जहांगीर ने 12 आदेशों(Passed 12 orders) की घोषणा जहांगीर ने करवाई।

तमगा नामक कर (Abolition of Tamga Tax) पर प्रतिबन्ध लगवाया।

शराब व् मादक पदार्थों की बिक्री व् निर्माण(Manufacturing and sale of Alcohol was banned)  पर प्रतिबन्ध था।

सिंहांसन पर बैठते ही जहांगीर के पुत्र खुसरो ने विद्रोह (His son Khusro revolted against him) कर दिया जिसे जहांगीर ने पकड़वाकर अँधा कर दिया।  बाद में खुसरो की हत्या (Khusro was killed by Jahangir) भी जहांगीर ने ही करवाई।

जहांगीर ने  पांचवे गुरु, गुरु अर्जुन देव को खुसरो की सहायता करने के कारण फांसी (Guru Arjun Dev was executed after 5 days of torture) लगवा दी।

1611 AD में जहांगीर का विवाह अलीकुली बेग (शेर अफगान) की विधवा(Married with widow of Sher Afgan Mehruninsa) मेहरुन्निसा से हुआ जो नूरजहां (Noorjahan) के नाम से प्रसिद्ध हुई।

जहांगीर ने नूरजहां के पिता ग्यासबेग को एत्माद्दौला(Itmad-ud-daulah) की उपाधि दी ।

नूरजहां बहुत महत्वकांक्षी और बुद्धिमान स्त्री थी। नूरजहाँ  को बादशाह की बेगम (Padshah Begum)1613 में बनाया गया।

नूरजहां एवं उसके समर्थको ने एक गुट(There was alliance between Nurjahan, her father, Asaf Khan and Khurram) बना लिया था जिसमे एत्मादौल्ला, उसका भाई आसफ खान तथा शहजादा खुर्रम (शाहजहां)शामिल थे।

जहांगीर ने निसार नाम सिक्के (Issued Coins named Nisar)चलवाये।

जहांगीर के 5 पुत्र थे।

   Shalimar Garden of Kashmir

कश्मीर का शालीमार बाग़ (Shalimar Garden) और निशांत बाग जहांगीर ने लगवाया।

 

इक़बालनामा -ए- जहांगीरी (Iqbalnama-e- Jahangiri)मोतमिद खान ने लिखा।

 राज्य की जनता को न्याय दिलाने हेतु न्याय की प्रतिक के  रूप में सोने की जंजीर (Golden Chain as symbol of Justice)को अपने महल के बाहर लगवाया।

जहांगीर के शासन काल में मुग़ल चित्रकला चरमोत्कर्ष (Mughal paitings were on its peak in Jahangir’s reign) पर थी।

1608-1611 AD  में जहांगीर के दरबार में प्रथम अंग्रेज़ कैप्टन विलियम हॉकिन्स (Captain William Hawkins) व्यापारिक अनुमति प्राप्त करने हेतु आया पर असफल (Failed)रहा।

1615-1618 AD में  सर टॉमस रो(Sir Thomas Roe) के नेतृत्व में दूसरा मिशन भारत आया  और व्यापारिक अनुमति प्राप्त करने में सफल(Successful) हुआ।  एडवर्ड टेरी आदि यूरोपीय यात्री भी उसके दरबार में आये।

जहांगीर के ही शासन काल में अंग्रेज़ों ने सूरत (First factory at Surat)में प्रथम व्यापर केंद्र  की स्थापना की।

1627 AD में जहांगीर की मृत्यु हो गई।

जहांगीर को रावी नदी के किनारे शाहदरा (Shahdara)नामक स्थान पर दफनाया गया।

तम्बाकू का उत्पादन जहांगीर के ही शासन काल में शुरू हुआ यह भारत में पुर्तग़ालिओं द्वारा लाया गया
पिएत्रा वाले,(Pietra Valle) प्रसिद्ध यात्री इटली से भारत जहांगीर के शासनकाल में आया

 

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *