EARTH

Earth

IMPORTANT FACTS ABOUT EARTH

  • पृथ्वी को नीला गृह (Blue Planet) भी कहा जाता है. इसका घनत्व सभी ग्रहों से अधिक है ।
  • इसकी परिधि (Circumference) 40,232 Km है. तथा इसका क्षेत्रफल 510 मिलियन वर्ग किमी है ।
  • इसकी सूर्य से औसत दूरी 149 मिलियन किमी है।
  • पृथ्वी, सौर परिवार का पांचवां सबसे बड़ा गृह है ।
  • पृथ्वी की उत्पति आज से लगभग 4.6 अरब वर्ष पहले हुई थी ।
  • पृथ्वी का 2/3 भाग (71%)जल से ढका हुआ है पृथ्वी एक गोलाकार पिंड है ।
  • पर यह भूमध्य रेखा पर उभरी हुई तथा ध्रुवों पर चपटी है अतः इसका आकर चपटा दीर्घवृत (Oblate Spheroid or Oblate Ellipsoid) है ।

What are the Movements of Earth?

पृथ्वी दो प्रकार की गतियों को दिखाती है जो मौसम और दिन-रात के पैटर्न की ओर ले जाती है। ये गति हैं -
 1.  घूर्णन (Rotation) । 
 2.  परिक्रमण(Revolution) । 

How Earth Rotates?

Rotation of Earth

  • पृथ्वी अपने अक्ष पर पश्चिम से पूर्व की ओर घूमती है।
  • पृथ्वी के घूर्णन के कारण दिन और रात होते हैं, तथा जिसके ही कारण पवन एवम समुद्री धाराओं की दिशा में परिवर्तन होता है और समुद्र में ज्वार भाटा आता है ।
  • 500 ईसा पूर्व के आसपास, आर्यभट्ट ने अपनी गणनाओं के आधार पर कहा कि पृथ्वी गोलाकार है और अपनी धुरी के बारे में घूमती है।
  • पृथ्वी को अपने अक्ष पर एक चक्कर लगाने के लिए 23 घंटे,56 मिनट और 4.9 सेकंड लगते हैं इसे नक्षत्र दिवस कहते(Sidereal Day) हैं
  • पृथ्वी के घूर्णन की गति सबसे अधिक भूमध्य रेखा पर होती है (लगभग 1,667 Km/hr) तथा सबसे कम ध्रुवों में होती है जहाँ पर यह शुन्य होती है

How Earth revolves?

REVOLUTION OF EARTH

  • एक निश्चित पथ या कक्षा में सूर्य के चारों ओर पृथ्वी की गति को परिक्रमण कहा जाता है ।
  • पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा का मार्ग उतर से दक्षिण वामावर्त(Counter Clock Wise) है ।
  • पृथ्वी जिस अक्ष पर घूमती है वह एक काल्पनिक रेखा है जो पृथ्वी के केंद्र से होकर उतरी और दक्षिणी ध्रुवों को मिलाती हैं ।
  • पृथ्वी का यह अक्ष अपने कक्ष तल के साथ 66 1/2 अंश का कौण बनाता है ।
  • पृथ्वी को सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाने में 365 दिन 6 घंटे लगते हैं ।
  • पृथ्वी का सूर्य की परिक्रमा का मार्ग दिर्घ्वृतीय होने के कारण पृथ्वी और सूर्य की दूरी वर्ष भर एक समान नहीं रही रहती ।

What is Perihelion?

उपसौर(Perihelion)

यह वह स्थिति है जिसमे सूर्य और पृथ्वी के मध्य सबसे कम दूरी पर होती है । इस स्थिति को उपसौर कहते हैं ।

यह स्थिति प्रति वर्ष 3 जनवरी को आती है ।

इस समय पृथ्वी और सूर्य के मध्य दूरी 147 मिलियन किमी होती है ।

What is Aphelion?

अपसौर (Aphelion)

यह वह स्थिति है जिसमे सूर्य और पृथ्वी की दूरी सबसे ज्यादा होती है ।

इस स्थिति को अपसौर कहते हैं यह स्थिति प्रति वर्ष 4 जुलाई को आती है जब पृथ्वी और सूर्य की दूरी 152 मिलियन किमी होती है ।

What are the effects of Revolution of Earth?

Effects of Revolution of Earth Around Sun

Inclined Axis of Earth
  • कर्क और मकर रेखाओं का निर्धारण होता है ।
  • पृथ्वी का झुकाव कभी नहीं बदलता है: अपनी कक्षा के दौरान, पृथ्वी एक ही दिशा में झुकी हुई है।
  • सूर्य रोशनी का चक्र – पृथ्वी आकार में गोलाकार है, जो एक समय में सूर्य के प्रकाश के संपर्क में होने के साथ-साथ अन्य आधा भाग अंधेरे में रहता है। इसके परिणामस्वरूप, पृथ्वी का एक आधा दिन और दूसरा आधा रात का अनुभव होता है। अब, यह चक्र जो पृथ्वी पर दिन और रात को विभाजित करता है, को रोशनी के सर्कल के रूप में जाना जाता है। विशेष रूप से, यह चक्र पृथ्वी के अक्ष के साथ मेल नहीं खाता है क्योंकि वहां पर 6-6 महीनों के दिन व् रातें होती हैं ।
  • पृथ्वी पर कर्क और मकर रेखाओं का निधारण होता है ।
  • ऋतुएँ – पृथ्वी अपनी धुरी पर झुकी हुई होती है, इसका अर्थ है कि पृथ्वी के विभिन्न भागों में अलग-अलग मात्रा में सूर्य का प्रकाश प्राप्त होता है।
  • पृथ्वी की परिक्रमा के साथ पृथ्वी की धुरी 66 1/2 कोण के साथ झुकी हुई है- पृथ्वी की धुरी जो एक काल्पनिक रेखा है, अपने पृथ्वी के नियमित चक्कर के साथ-साथ 66 1/2 कोण का कोण बनाती है, जो पृथ्वी की नियमित परिक्रमा के साथ होता है। दुनिया भर में विभिन्न मौसम। दक्षिणी गोलार्ध उतरी गोलार्ध की तुलना में अलग मौसम प्राप्त करता है ।

What causes Seasons on Earth?

Seasons on Earth

पृथ्वी की घूर्णन गति तथा परिक्रमण के कारण पृथ्वी में चार प्रमुख ऋतुओं का सृजन होता है ।

Seasonal Changes due to Revolution of Earth
  • बसंत ऋतु (Spring) -21 मार्च को सूर्य भूमध्य रेखा के बिलकुल ऊपर होता है इस दौरान उतरी गोलार्ध क्षेत्र में बसंत ऋतू होती है ।
  • ग्रीष्म ऋतु(Summer) – 21 जून को सूर्य कर्क रेखा केऊपर होता है इस य उतरी गोलार्ध क्षेत्र में ग्रीष्म ऋतू होती है ।
  • शरद ऋतु(Autumn) -23 सितम्बर को सूर्य भूमध्य रेखा के बिलकुल ऊपर होता है अतः इस समय उतरी गोलार्ध क्षेत्र में शरद ( पतझड़) ऋतु होती है ।
  • शीत ऋतु(Winter) -21 दिसम्बर को सूर्य मकर रेखा के बिलकुल ऊपर होता है अतः इस समय उतरी गोलार्ध में शीत ऋतु होती है ।

What is Equinox?

Equinox( विषुव )

  • यह वर्ष में दो बार होता है। एक बार 21 मार्च को और फिर 23 सितंबर को जब सूर्य की किरणें भूमध्य रेखा पर पड़ती हैं, तो अधिकतम सूर्य की रोशनी भूमध्यरेखीय क्षेत्र द्वारा प्राप्त की जाती है।
  • भूमध्य रेखा पर सूर्य के चमकने के कारण पृथ्वी पर दिन और रात की समान लंबाई होती है। इस स्थिति में, कोई भी ध्रुव सूर्य की ओर झुका या झुका नहीं है। इसे विषुव(Equinox) के रूप में जाना जाता है।

Also Read- Indian Geography, River System of India, Physiography of India

What is Solstice ?

इस समय पृथ्वी में दिन और रातों की लम्बाई में अंतर सर्वाधिक होता है ये दो प्रकार के होते हैं

What is Summer Solstice?

  • यह हर साल 21 जून को होता है।
  • उत्तरी गोलार्ध में सबसे लंबा दिन और सबसे छोटी रात देखी जाती है।
  • ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उत्तरी गोलार्ध का झुकाव सूर्य की ओर होता है और उतरी ध्रुव सूर्य की ओर इशारा करता है। इसलिए, सूर्य की किरने (Sun-rays) सीधे कर्क रेखा पर आ हैं।
  • उतरी गोलार्ध का एक बड़ा हिस्सा सूर्य से प्रकाश प्राप्त करता है, इसलिए इस गोलार्ध के क्षेत्रों में गर्मी है। लेकिन, दक्षिणी गोलार्ध में, इस क्षेत्र में सर्दियों के मौसम में दिनों की तुलना में अधिक रातें होती हैं।

What is Winter Solstice ?

Winter Solstice

  • यह प्रत्येक वर्ष 22 दिसंबर को होता है।
  • उत्तरी गोलार्ध सबसे कम दिन और सबसे लंबी रात को देखता है। जबकि, दक्षिणी गोलार्ध में सबसे लंबा दिन और सबसे छोटी रात होती है।
  • ऐसा इसलिए होता है क्योंकि दक्षिणी ध्रुव पर सूर्य की ओर झुकाव होता है, जिसमें दक्षिणी गोलार्ध में अधिकतम सूर्य का प्रकाश प्राप्त होता है, इसलिए, यह दक्षिणी गोलार्ध में गर्मी का मौसम होता है, लेकिन उत्तरी गोलार्ध में सर्दियों का मौसम होता है। पृथ्वी की यह स्थिति विंटर सोलिस्टिस के नाम से जानी जाती है।

What is Leap Year ?

Leap Year

पृथ्वी 365 दिन,5 घंटे,48 मिनट और 45.51 सेकंड समय में सूर्य की चारों और परिक्रमा करती है जिससे एक वर्ष बनता है 5 घंटे,48 मिनट और 45.51 सेकंड के कारण प्रत्येक चार वर्ष में एक दिनकी वृद्धि हो जाती है और यह डिज़ाइनर कैलेंडर के तहत 29 फरवरी को जोड़ा जाता है। ऐसे साल में सामान्य दिनों के 365 दिनों की तुलना में 366 दिन होते हैं।

What is Polar Day?

Polar Day

यह घटना है, अक्षांशों में देखने योग्य 66 1/2 उतर और खट्टा (या आर्कटिक और अंटार्कटिक सर्कल) जहां सूरज गर्मियों के दौरान क्षितिज के नीचे नहीं डूबता है। इसका परिणाम पृथ्वी की धुरी के झुकाव के कारण होता है, प्रत्येक गोलार्द्ध का झुकाव गर्मियों के दौरान सूर्य की ओर होता है। घटना की अनुभूति ध्रुवों की ओर बढ़ती है, जहां यह प्रत्येक वर्ष के छह महीनों के लिए मनाया जा सकता है
उतरी ध्रुव 21 मार्च से 23 सितंबर तक दिन का अनुभव करता है।
23 सितंबर से 21 मार्च तक दक्षिण ध्रुव दिवस का अनुभव करता है .

Mountain Ranges of India, President of India

Author: admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *