CAREERS IN COMMERCE STREAM

CAREERS IN COMMERCE STREAM

CAREERS IN COMMERCE STREAM

CAREERS IN COMMERCE STREAM -11वीं-12वीं कक्षा में Commerce का अध्ययन करने के बाद, उम्मीदवारों को स्नातक स्तर पर कई पाठ्यक्रमों में से चुनने की अनुमति मिलती है, जिससे करियर विकल्पों की एक श्रृंखला का मार्ग प्रशस्त होता है। कला के छात्रों की तुलना में वाणिज्य के छात्रों के लिए एक प्रमुख लाभ यह है कि वे वाणिज्य और कला दोनों पाठ्यक्रमों के लिए पात्र हैं। इस लेख में, आप वाणिज्य के छात्रों के लिए कक्षा 12 वीं के बाद पाठ्यक्रम चयन के बारे में पढ़ेंगे, लेकिन पहले कक्षा 12 वीं के बाद पेश किए जाने वाले वाणिज्य स्ट्रीम में सबसे लोकप्रिय पाठ्यक्रमों पर एक नज़र डालें।

Commerce Stream के छात्रों के लिए B.Com. सबसे लोकप्रिय कोर्स है, यह कोर्स प्रमुख रूप से बीकॉम ऑनर्स और बीकॉम जनरल के रूप में पेश किया जाता है। कॉमर्स स्ट्रीम में, जबकि अकाउंटेंसी, बिजनेस स्टडीज और इकोनॉमिक्स मुख्य विषय हैं, गणित वैकल्पिक है। इस प्रकार, वाणिज्य धारा को दो समूहों में वर्गीकृत किया जा सकता है: गणित के साथ वाणिज्य और गणित के बिना। 11वीं और 12वीं कक्षा में गणित के साथ वाणिज्य का अध्ययन करने वाले छात्र बीकॉम ऑनर्स का विकल्प चुन सकते हैं, जबकि गणित के बिना वाणिज्य का अध्ययन करने वाले छात्र बीकॉम जनरल का विकल्प चुन सकते हैं।

CAREERS IN COMMERCE STREAM

जब विद्यार्थी 12th में होते है तो उनका उदेश्य पहले से ही निर्धारित होता है लेकिन कुछ विद्यार्थी ऐसे भी होते है जिनका लक्ष्य पहले से निर्धारित नहीं होता है, लेकिन जब किसी विद्यार्थी से पूछते है कि 12th के बाद आपको क्या करना है तब अक्शर उनके द्वारा यह सुनने को जरूर मिलता है कि 12th पास करने के बाद कोई अच्छा सा कोर्स करूँगा जिसका scope बेहतर हो.

मेरा इरादा साफ है मतलब, चाहे कोई भी कोर्स हो, Professional या Academic पहले आपको उसके बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए तभी आप अपने लिए एक अच्छा निर्णय ले सकते है क्योकि जिसके पास जिंतना Information होता है वो उतना ही confidentहोते है.

12th पास करने के बाद स्टूडेंट्स अपने फ्यूचर के बारे सोच कर परेशान होने लगते है कि 12th के बाद क्या किया जाए या ऐसा कौन-सा कोर्स किया जाए जिससे उनका भविष्य खुशनुमा बने. पर ऐसी परेशानी सबके साथ होती है खासकर जब लाइफ के बारे में सलेक्शन करना हो तब परेशानी और बड़ी हो जाती है, चाहे वो किसी भी stream के स्टूडेंट्स क्यों न हो (science, Arts और Commerce).

लेकिन अगर कॉमर्स स्ट्रीम के बारे में बात करे तो दूसरे स्ट्रीम के मुकाबले इसमें थोड़ी कम परेशानी होती है हालांकि इसमें भी कोर्सेज की कमी नहीं है लेकिन ज्यादातर स्टूडेंट्स कुछ चुनिंदा कोर्सेज के साथ जाना पसंद करते है इसीलिए इसमें थोड़ी कम परेशनी होती है निचे कुछ चुनिंदे कोर्सेज को अंकित किया गया है जो करियर एवं बेहतर शिक्षा के लिए प्रसिद्ध माने जाते है.

CAREERS IN COMMERCE STREAM AFTER PLUS TWO

कॉमर्स से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण कोर्सेज का नाम एवं उसके विशेषता दिया गया है जो निर्दारित करते है कि ये प्रमुख कोर्स है. वास्तव में कोर्स वही श्रेष्ठ होता है जिसमे Career Scope एवं शिक्षा की प्रधानता अधिक होते है.

Bachelor of Commerce (B.Com)

B.Com एक Accounting based Course है जो 3 वर्ष का होता है. कॉमर्स से अधिकतर स्टूडेंट्स B.Com के तरफ ही अपना रुख करते है क्योकि इसमें एडमिशन लेने के लिए कोई प्रवेश परीक्षा देने की जरुरत नहीं पड़ती है.

लेकिन कई ऐसे कॉमर्स College है जिनमे एडमिशन लेने के लिए प्रवेश परीक्षा पास करना पड़ता है.

Fees

B.Com में लगभग 15,000 वार्षिक होता है जो affordable है शायद इसीलिए ही B.Com की लोकप्रियता सबसे अधिक है. आप अपने पसंदिता Honors के साथ B.Com पूरा कर सकते है.

Career After B.Com.

B.Com फाइनल करने के बाद आप अपना Higher Education जारी रख सकते है जैसे; M.Com, MBA और MCA इत्यादि या फिर Government Jobs के लिए प्रवेश परीक्षा पास कर अच्छी सैलरी पैकेज वाला जॉब्स पा सकते है, या आप Accounting Finance, ऑपेरशन टेक्सेशन और दूसरे प्राइवेट फील्ड में करियर बना सकते है.

Bachelor of Commerce in Financial Marketing

B.Com- Financial Marketing, 12th के बाद किया जा सकता है और इसमें कई ऐसे टॉपिक के बारे में आपको introduce करवाया जाता है जिसका फाइनेंसियल मार्केटिंग में इस्तेमाल ज्यादा होता है.

इस प्रोग्राम 3 वर्ष का होता है और लगभग 41 subjects के बारे आपको जानकारी दी जाती है. जब आप इस डिग्री को हासिल कर लेते है उसके बाद इस डिग्री से आपके लिए जॉब्स में अपार सम्भावनाए बन जाती है.

आप इस कोर्स की सहायता से कई फील्ड में जॉब पा सकते है जैसे; Finance Officer, Finance Controller, Finance Planner, Money Market Diller और Finance Manager, etc.

Chartered Accountant

CA, India में most valuable and Top competitive Post है जो इंस्टिट्यूट ऑफ़ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ़ इंडिया, चार्टर्ड अकाउंटेंट का कोर्स करवाता है.

CA बनने का प्रक्रिया 10वी से ही शुरू हो जाती है जैसे, अगर आपको चार्टर्ड अकाउंटेंट बनाना है तो आप 10th पास करने बाद CPT के लिए आवेदन कर सकते है पर एग्जाम आप 12th पास करने के बाद ही दे सकते है, जो CA के पहला एंट्रेंस एग्जाम होता है.

12th के बाद कोई भी स्टूडेंट्स और किसी भी स्ट्रीम के स्टूडेंट्स CA में अपना कैरियर बना सकते है. खास बात, CA एंट्रेंस एग्जाम के लिए किसी भी तरह की मार्क्स परसेंटेज की जरुरत नहीं होती है.

केवल आप 12th पास होने चाहिए। कई बार देखा गया है कि स्टूडेंट्स ग्रेजुएशन के बाद भी CA के लिए अप्लाई करते है लेकिन CA की लम्बी अवधि के वजह से इसकी शुरआत करने का टाइम 12वी के बाद ही सही होता है और समय भी बहुत होता है. CA कोर्स का अवधि 4.5 का होता है

अधिक जानकारी के लिए CA की official Website पर जाए. The Institute Of Chartered Accountants Of India

JOIN US ON OUR FACEBOOK PAGE

Bachelor of Commerce in Banking and Insurance (BBI)

Bachelor of Commerce in Banking and Insurance, यह 3 वर्ष का डिग्री कोर्स है जो 6 सेमेस्टर में बता हुआ होता है. B.Com (Banking and Insurance) Academic और Professional डिग्री दोनों है. BBI में अकॉउंटिंग, इन्सुरांस, लॉ, बैंकिंग लॉ, और Insurance रिस्क कवर करने की ट्रेनिंग दी जाती है.

इतना ही नहीं इसमें कम्युनिकेशन स्किल भी प्रदान कराया जाता है ताकि बैंकिंग और इंस्युरेन्स फिल्ड को परिपक्वता से समझने में सहूलियत मिल सके.

इस कोर्स की पढ़ाई प्रैक्टिकल एंड थेओरीकल दोनों तरह से प्रदान किया जाता है. Bachelor in Banking & Insurance उनके लिए सबसे अच्छी पसंद है जो बैंकिंग के फील्ड में अपना career बनाना चाहते है.

Career and Salary Package

Bachelor of Banking & Insurance को पूरा करने बाद आप उच्च शिक्षा के लिए जा सकते है बैंकिंग के फिल्ड में अपने पसंद के अनुसार Insurance, financial, Auditing or Accounting में जॉब्स कर सकते है. एक फ्रेशर उम्मीदवार इस इंडस्ट्री में 3 लाख से 4 लाख प्रति वर्ष वेतन प्राप्त कर सकते है.

Bachelor of Accounting and Finance

Bachelor in Accounting & Finance 3 वर्ष का डिग्री कोर्स है जिसे 12th कॉमर्केस बाद किया जा सकता है और इसका एग्जाम सेमेस्टर वाइज होता है.

Fees

इस कोर्स की फ़ीस प्राइवेट कॉलेज में लगभग 14,000 से 35, 000 होता है. जबकि सरकारी कॉलेज में लगभग 10,000 से 25,000 तक होता है जिसमे स्कॉलरशिप आदि का प्रावधान भी होता है.

Career

कोर्स पूरा करने के बाद फाइनेंस और अकॉउंटिंग में कैरियर के मौके बढ़ जाते है जैसे; Banks, Business, Schools, Credit, Organization, Consultancies, Economic, Consulting jobs, Indian Civil Services, Health Department, Insurance Industry, Securities Industry and Investments etc. में किसी से भी आप अपना कैरियर आगे बढ़ा सकते है.

इसमें एक फ्रेशर उम्मीदवार का वार्षिक सैलरी लगभग 3.5 से 4 लाख के आसपास होता है और जैसे-जैसे एक्सपीरियंस बढ़ता जायेगा वैसे-वैसे सैलरी भी इनक्रीस होता जाता है.

Company Secretary

CS बनने के लिए 12th पास करने के बाद Foundation Entrance Exam के लिए अप्लाई कर सकते है जो CS के पहले चरण का Entrance Exam होता है.

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया उपलब्ध होता है. CS कोर्स का एग्जाम तीन चरण में होता है, पहला Foundation Exam, दूसरा Executive Exam और तीसरा Professional Exam है.

कंपनी सेक्रेटरी का एग्जाम वर्ष में दो बार होता है जून और दिसम्बर में, और सम्पूर्ण कोर्स का फ़ीस लगभग 35,000 के आसपास होता है.

CS का डिग्री पूरा करने के बाद आप खुद प्रैक्टिस कर सकते है या किसी हाई डिमांडेड कंपनी में Cs के पद पर नियुक्त हो सकते है इसकी शुरूआती सैलरी लगभग 4 लाख से 5 लाख तक होती है. एक्सपीरियंस होने के साथ-साथ आपकी सैलरी भी बढ़ती जाती है.

Cast and Work Accountant (CWA)

कॉस्ट एंड वर्क अकाउंटेंट 12th के बाद किया जा सकता है जो ये CA से लगभग मिलता जुलता कोर्स है, भारत में कई ऐसे Institutes है जो इस कोर्स को करवाते है.

इस कोर्स को करने के लिए पहले फाउंडेशन कोर्स को करना होता है. कोर्स को पूरा करने के बाद कॉस्ट अकउंटेंट से जुड़े पदो पर काम करने को स्टूडेंट्स को मौका मिलता है.

यह लोकप्रिय कोर्स है जिसे पूरा करने के बाद आप एक अच्छे जॉब पा सकते है जो काफी हाई salary package वाला job होता है. खासकर इसका फ्यूचर स्कोप इंडिया में बहुत है.

BBA (Bachelor Of Business Administration)

BBA 12th कॉमर्स के बाद की जाने वाला डिग्री लेवल का कोर्स है जो 6 सेमेस्टर में बता हुआ होता है. आप अपने मनपसंद सब्जेक्ट के साथ BBA पूरा कर सकते है जैसे BBA in (मार्केटिंग, फाइनेंस, इंटरनेशनल बिज़नेस ह्यूमन रिसोर्स) आदि.

Fees

BBA का फ़ीस आमतौर पर उसके यूनिवर्सिटी पर निर्भर होता है प्राइवेट कॉलेज में लगभग इसका फ़ीस 1.5 से 2.5 लाख के तक होता है तथा सरकारी कॉलेजो में प्राइवेट से बहुत कम फ़ीस होता है.

एक जरुरी बात BBA के डिग्री लेने के बाद आप MBA कर सकते है ये हाई डिमांडेड कोर्स है. इसके अलावा BBA करने के बाद इसमें जॉब opportunity के मौके बढ़ जाते है और आप आसानी जॉब भी पा सकते है इसलिए यह 12th के बाद कॉमर्स में सबसे अच्छा विकल्प है और इसका सैलरी पैकेज भी अच्छा होता है.

12th Commerce के बाद Diploma courses

आज के दौर में ज्यादातर स्टूडेंट्स 1 वार्षिक कोर्सेज के पीछे जा रहे है जिससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि अभी 1 वार्षिक कोर्सेज का कितना demand है.

जाहिर सी बात हम उसी चीझ के पीछे भागते है जिसमे जल्दी सफलता मिलाने के संभावनाए होते है क्योकि Diploma Courses 1 वर्ष का तो है ही लेकिन इसका डिमांड इतना ज्यादा की इस डिग्री को पूरा करने के बाद इसमें जॉब मिलने की संभावनाए बहुत बढ़ जाती है.

इसलिए स्टूडेंट्स की ध्यान सबसे जयदा डिप्लोमा Courses पर ही है. हम डिप्लोमा courses के लिस्ट नीचे मेंशन कर रहे है जिसे आपको 12th कॉमर्स के बाद जरूर करना चाहिए ये सभी हाई डिमांडेड डिप्लोमा courses है और ये सभी एक वर्षीय courses है.

  • Diploma In Finance Accountancy
  • Diploma in Hotel Management
  • Diploma In Yoga
  • Diploma in Computer Application
  • Diploma In Fashion Designing
  • Diploma In Industrial Safety
  • Diploma In Retail Management
  • Diploma In Physical Education

Also Read these-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!